हिम साहित्यकार सहकार सभा
मकान सं० 210, रौड़ा सेक्टर 2,बिलासपुर, हिमाचल प्रदेश 
e-mail: himsahitykarsahkarsabha@gmail.com

Blogger news

चिट्ठाजगत Blogvani.com हिमधारा
लिखे हुए शब्दों का कोई अर्थ  नहीं
अगर वे
सिगरेट की आखरी कश की तरह
जमीन पर फेंककर पांव से कुचल दिए जायें।
लिखे हुए शब्दों की ताकत ऐसी हो
कि बुझता हुआ दीया फिर से सुलग जाय
अन्याय सहते किसी व्यक्ति के साथ न्याय हो जाय
या जी जाय फिर से
कोई मरता हुआ आदमी।
मैं उन शब्दों को सहेजना जरूरी समझता हूं
जो चमकते रहते हैं तारों की तरह
अनंतकाल तक।
जिसके माध्यम से
सुन्दरता को बचाए रखने की
हर पल कोशिश की जाती है।
आपको यह पोस्ट कैसी लगी:
Categories: , ,

1 टिप्पणी: